You are here
49 days of AAP Politics 

पांचवा दिन – VAT का सरलीकरण, 15000 नए ऑटो परमिट

49 days of AAP

आज से दिल्ली में विधान सभा सत्र की शुरुवात हुई. पहले दिन सभी मंत्रियो और विधायको ने शपथ ली. कल 2 जनवरी 2014 को इस सरकार को विश्वास मत हासिल करना होगा. इन सबको शपथ दिलाने का काम कार्यवाहक विधासनभा अध्यक्ष मतीन अहमद ने किया.

कैबिनेट बैठक में आज व्यापारियों की समस्या को लेकर एक अहम् फैसला लिया गया. व्यापारी संघटनो की कई वर्षो से मांग थी की VAT सिस्टम को आसान बनाया जाए और यह मुद्दा आम आदमी पार्टी के घोषणापत्र में भी था. बैठक के बाद केजरीवाल ने घोषणा कर दी की VAT सिस्टम को सरल बनाया जायेगा, साथ ही फॉर्म AR1 को जमा करने की अंतिम तिथि 31 जनवरी तक बढ़ा दी गई.

दिल्ली में बिजली दरो में कटौती के बाद अब कई अन्य राज्यों में नेताओ की आँखे खुलने लगी. मुंबई से कांग्रेसी सांसद संजय निरुपम ने पत्र लिखकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से दिल्ली की तर्ज पर बिजली दरे कम करने की मांग की और साथ ही मांग न माने जाने पर अपनी पार्टी की सरकार को आन्दोलन की चेतावनी भी दे डाली. टाटा पावर ने भी केजरीवाल सरकार के इस निर्णय की सराहना की.

गरीब लोगो को रोजगार देने की दिशा में आज सरकार ने एक कदम बढाया. परिवहन मंत्री सौरभ भारद्वाज ने अनुसुचुचित जाती और जमाती के 15000 लोगो को ऑटो परमिट देने की घोषणा की. साथ ही उन्होंने कहा की दिल्ली में कई लोग ऐसे है जिनके पास 500 ऑटो के परमिट है जो वो गरीब चालको को किराये पर देते है. इस तरह के माफिया पर जल्दी ही लगाम लगे जाएगी.

बिजली दरो में केजरीवाल द्वारा दी गई छूट सब्सिडी के माध्यम से दी गई थी जो केवल आम जनता को तुरंत राहत देने के उद्देश से लिया गया निर्णय था. इस समस्या का स्थाई समाधान केवल बिजली कम्पनियो के CAG ऑडिट से संभव है. आज दिल्ली के उपराज्यपाल ने CAG ऑडिट के आदेश पर दस्तखत कर दिए.

पिछले 3 दिनों से केजरीवाल सरकार के मंत्री राखी बिरला और मनीष सिसोदिया देर रात तक रैन बसेरो का दौरा कर रहे थे. उनकी रिपोर्ट के आधार पर केजरीवाल ने सभी रैन बसेरो को पक्के टेंट में तब्दील करने का आदेश दिया। वर्तमान रैन बसेरे प्लास्टिक से बने होने के कारण कड़ाके की ठण्ड को रोकने में अक्षम थे. साथ ही SDM को निर्देश दिए की अगले 2 – 3 दिनों मे जहा रैन बसेरो की आवश्यकता है ऐसे स्थानो को चिन्हित कर नए रैन बसेरे बनाये जाए. कई लोग जो रैन बसेरो में जाने को राजी नहीं है उनके लिए उसी स्थान पर व्यवस्था की जाए जहा वो रात गुजारते है. साथ ही अपने सभी विधायको से अपील की, की वो अपने इलाके के सभी रैन बसेरो का दौरा करे और वहा की समस्याएं सुलझाये।

Wanna Discuss? Tag your friends.

comments

Related posts